उपायुक्त की अध्यक्षता में मानसून को लेकर जिला आपदा प्रबन्धन की बैठक,दिए गए निर्देश

झारखण्ड राज्य में मानसून सक्रिय है एवं इसके कारण हजारीबाग में भारी बारिश की संभावना बनी हुई है।अक्सर देखा गया है कि अत्याधिक वर्षा के कारण जान माल के नुकसान की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।


इस संबंध में उपायुक्त नैंसी सहाय ने शनिवार को समाहरणालय सभागार में आपदा प्रबंधन की बैठक की। उन्होंने दिशा निर्देश जारी करते हुए कहा कि अत्यधिक वर्षा के कारण अक्सर झील, तालाब,जलाशय, डोभा, नदी-नाले सब भर जाते हैं और आम जनजीवन प्रभावित होता है। अत्यधिक वर्षा से सड़क जाम, कच्चे मकान का टुटना, वज्रपात से जान माल को नुकसान, फसलों को नुकसान की संभावना बनी रहती है। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में जान माल की हानि की संभावना बनी रहती है। विशेषकर बच्चों को इससे काफी खतरा रहता है। किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह तैयार है। उन्होंने लोगों से नदी नाले, जलाशय आदि से बच्चों को दूर रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि बरसात के दिनों में खेतों में काम कर रहे कृषकों की वज्रपात के कारण आकस्मिक मौत की जानकारी प्राप्त होती है साथ ही खुले खेतों में रह रहे मवेशियों पर भी खतरा बना रहता है इसलिए जरूरी है की मानसून से पूर्व इस संबंध में ग्रामीण क्षेत्रो में बचाव संबंधी वृहत्त प्रचार प्रसार किया जाय।

अत्यधिक वर्षा या बाढ़ के कारण बेघर हुए लोगों को राहत शिविर में रखने की स्थिति में भवनों के चयन करने पर हुई चर्चा

अत्यधिक वर्षा या बाढ़ के कारण बेघर हुए लोगों को राहत शिविर में रखने पर चर्चा हुई इस बाबत उन्होंने सभी प्रखंडों में भवन का चिन्हितकरण करने का निर्देश दिया ताकि समय पर उन भवनों का प्रयोग राहत शिविर के रूप मे किया जा सके। उन्होंने राहत शिविर में आवश्यक व्यवस्था मिनिमम स्टैन्डर्ड आफ रिलीफ फाॅर विक्टिम आफ डिजास्टर के लिए गाईडलाईन दिए।
आगे उन्होंने कहा कि तेज आंधी तुफान से सुखे एवं कमजोर पेड़,हाई वोल्टेज का तार,यातायात बाधित एवं कमजोर भवनों को क्षति पहुंचती है जिससे दुर्घटना की संभावना बनी रहती है इसलिए ऐसे बिंदुओं पर समय रहते आवश्यक कदम उठाने की बात कही।
अत्यधिक बर्षा के कारण यदि सड़क/पुल-पुलिया ध्वस्त होता है तो संबंधित विभाग तुरन्त कार्रवाई कर आवागमण बहाल कराना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया ताकि प्रभावित क्षेत्र/गाॅव का आवागमण व्यवस्था यथावत रहे और प्रखण्ड/जिला से सम्पर्क बना रहेे। वहीं उन्होंने अत्यधिक बर्षा के कारण यदि बिजली,खंबा, पोल क्षति ग्रस्त होता है तो बिजली विभाग तुरन्त कार्रवाई कर बिजली आपूर्ति बहाल कराना सुनिश्चित करें। साथ ही जल जमाव, बिजली आपूर्ति, अत्याधिक वर्षा के कारण हुए असामान्य जन जीवन की सूचना आदि देने की बात कही।


ग्रामीण इलाकों में सर्पदंश के मामलों के मद्देनजर सभी स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी वेनम दवा रखने का दिया निर्देश


मौके पर उन्होंने सिविल सर्जन को प्रभावित जगहों पर पीड़ितों का ससमय ईलाज की व्यवस्था करने, सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर सर्पदंश के इलाज हेतु पर्याप्त मात्रा मे एंटीवेनम की दवाइयां उपलब्ध रखने का निर्देश दिया।


कोविड 19 से मृत व्यक्तियों के आश्रितों को आपदा प्रबंधन विभाग के द्वारा दिये गये मुआवजा की स्थिति


कोविड-19 के संक्रमण के कारण मृत व्यक्तियों के आश्रितों से मुआवजा भुगतान हेतु अबतक 305 आवेदन प्राप्त हुए है जिनमें 186 आवेदनों के मुआवजा का भुगतान पूर्ण कर दिया है तथा शेष 119 आवेदनों को निष्पादन हेतु प्रक्रियाधीन किया गया है। उन्होंने कहा कि जिले में कोविड-19 मामले प्रकाश में आए हैं इसलिए जरूरी है कि सभी मास्क का प्रयोग करें एवं टीकाकरण लगाना सुनिश्चित करें।

उपायुक्त ने लगातार बारिश से होने वाली क्षति से बचने के लिए आमजन से की अपील

इन दिशा निर्देशों के तहत बच्चों को नदी, नाला, तालाब, डोभा, जलाशय से दूर रखने, भारी बारिश के कारण अगर दृश्यता कम हो तो वाहन चलाने का जोखिम नहीं लेने, अगर वाहन के साथ बाहर हैं तो इंडीकेटर व लाइट जला कर चलने, क्षतिग्रस्त सड़को, विद्युत लाईनों और वृक्षोें के टुटे डालों से सावधान रहने, घर लौटने के लिए निर्देशित मार्ग का ही पालन करने, सुरक्षित स्थानों पर अनाज व पानी का संग्रह रखने, दरवाजे खिड़कियों, छत व दिवारों को बारिश मौसम से पहले मरम्मति करवाने, अपातकालीन आवश्यकता की चीजें यथा खाद्य सामग्री टार्च एवं बैटरी इत्यादि तैयार रखने, अपने आस पास के शरण स्थलों व वहां के पहुंच मार्ग की जानकारी रखने, अपने आस पास के लोगों को इन खतरों के प्रति सावधान करने तथा टीवी रेडिया व अन्य संचार माध्यमोें से प्राप्त करते रहने की अपील की गई है।

मौके पर उपायुक्त के अलावे, जिला परिषद अध्यक्ष उमेश प्रसाद मेहता, अपर समाहर्ता राकेश रोशन, सिविल सर्जन जिला परिवहन पदाधिकारी जिला पशुपालन पदाधिकारी डीएसपी आरिफ इकराम सभी प्रखंडों के अंचलाधिकारी व अन्य कर्मी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here