नाट्यकला में रूचि रखने वाले विद्यार्थियों के लिए खुशखबरी

आईसेक्ट विश्वविद्यालय में नाट्यकला की पढ़ाई शुरू

नाट्यकला में रोज़गार की संभावनाएं अपार : डॉ मुनीष गोविंद

हजारीबाग। आईसेक्ट विश्वविद्यालय, हजारीबाग के प्रदर्शन एवं ललित कला विभाग में संगीत नृत्य और पेंटिंग के अलावा अब नए सत्र 2022 से नाट्य कला विषय में भी स्नातकोत्तर एवं डिप्लोमा की पढ़ाई शुरू कर दी गई है। इस बाबत आईसेक्ट विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ मुनीष गोविंद ने बताया कि विश्वविद्यालय में नाटक की पढ़ाई की शुरुआत बेहतर भविष्य की संभावनाओं के मद्देनजर किया गया है। उन्होंने बताया कि नाट्य कला की पढ़ाई में रूचि रखने वाले विद्यार्थियों के लिए यह वरदान साबित होगा। खासकर ऐसे विद्यार्थी, जो बाहर जाकर नाटक विषय की पढ़ाई करने में अपने आप को सक्षम महसूस नहीं करते, उनके लिए अब आईसेक्ट विश्वविद्यालय में नाट्यकला की पढ़ाई कर भविष्य के बेहतर मौके मिलेंगे। उन्होंने बताया कि वर्तमान समय की बात की जाए तो नाट्य कला में रोजगार की संभावनाएं तेजी से बढ़ी है।

संभावनाएं जहां बहुत कुछ कर सकते हैं

नाट्य कला की पढ़ाई कर शिक्षण संस्थानों में शिक्षक, प्राध्यापक, फिल्म, टीवी, सांस्कृतिक अधिकारी, अभिनेता, निर्देशक सहित अन्य क्षेत्रों में रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। वहीं प्रदर्शन एवं ललित कला विभाग के अधिष्ठाता रोहित कुमार ने बताया कि नाट्य कला, संस्कृति की अहमियत को बचाए रखने और सामाजिक चेतना के विकास में भी अहम भूमिका अदा करता है, जो सामाजिक कुरीतियों को समाप्त करने का सशक्त माध्यम के अलावा सामाजिक समरसता को बढ़ावा देने का जरिया है। उन्होंने बताया कि नाट्यकला और डिप्लोमा में नामांकन के लिए किसी भी विषय में स्नातक के साथ साथ कम से कम 2 साल का अनुभव होना चाहिए। स्नातकोत्तर में 2 साल और डिप्लोमा में एक साल की पढ़ाई होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here