हजारीबाग की रामनवमी ऐतिहासिक है 100 वर्ष से ऊपर हो चुके हैं संपूर्ण झारखंड ही नहीं वरन भारतवर्ष में इसकी ख्याति है ढोल ताशा नगाड़ा बैंजो और डीजे काफी कुछ बदला लेकिन लोगों के उत्साह और रामलला की दीवानगी में कोई बदलाव नहीं हुआ. उसी उत्साह से हर साल रामनवमी महासमिति अध्यक्ष पद का चुनाव होता है जहां विभिन्न अखाड़ों के अध्यक्ष और सचिव की भूमिका निर्णायक होती है. रविवार को उसी क्रम में अध्यक्ष पद की दावेदारी के लिए 8 लोगों ने नामांकन किया.

महंत विजयानंद दास के अध्यक्षता मे हुई बैठक

कल दावेदारों को 2 बजें तक मिलेगा चुनाव चिन्ह….

20 पूर्व महासमिति अध्यक्ष और 125 क्लब /अखाड़ों के अध्यक्ष , सचिव मतदान कर करेगें महासमिति अध्यक्ष का चुनाव .

चैत्र रामनवमी महासमिति के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव 19 मार्च को …..

हजारीबाग: चैत्र रामनवमी महासमिति के अध्यक्ष पद के लिए रस्सा कस्सी तेज हो गई है . चुनाव 19 मार्च को होना है. चुनाव को लेकर तैयारी शुरू हो गई है. इस पद के लिए आठ प्रत्याशी मैदान में है .राजेश यादव , कुलदीप कृष्ण , कुश सिन्हा , राजेश गोप , सुनील चन्द्रवंशी , बबलू यादव , सुनील कुमार व पवन गुप्ता .

125 अखाड़ों के अध्यक्ष व सचिव व 20 पूर्व रामनवमी महासमिति के अध्यक्ष की भूमिका होने वाली है निर्णायक…..

चित्र सौजन्य: सोशल मीडिया

आठों दावेदारों में सहमति नहीं बनने पर 19 मार्च को मतदान होगा .कल 2 बजे तक चुनाव चिह्न भी आवंटित कर दिया जाएगा .125 अखाड़ों के अध्यक्ष व सचिव व 20पूर्व रामनवमी महासमिति के अध्यक्ष मतदान में भाग ले सकेंगे . चुनावी दंगल में उपरोक्त आठों महासमिति के दावेदार के बीच कांटे की टक्कर होने की संभावना है . उम्मीदवार अपने-अपने वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं. चुनाव बड़ा अखाड़ा में संपन्न कराया जाएगा . विदित है पूरे देश में हजारीबाग का रामनवमी पर्व एक अलग स्थान रखता है .ऐसे में रामनवमी महासमिति के अध्यक्ष का चुनाव बड़ा खास बन जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here