हजारीबाग के एचएमसीएच अस्पताल से निकल कोरोना संक्रमित व्यक्ति का बाहर घूम आना प्रशासन व शहरवासियों के लिए परेशानी का सबब बन चुका है….

शहरवासियों में संक्रमण के खतरे को देखते हुए भय और संशय की स्थिति बन गई है. हालांकि प्रशासन ने एहतियातन 2 चाय दुकानदारों को पहले ही क्वॉरेंटीन किया है. ..

जिला प्रशासन की सबसे बड़ी चुनौती संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए लोगों को ढूंढ निकालना है

जिला प्रशासन ने संक्रमित व्यक्ति का फ्लो चार्ट जारी किया है जहां व्यक्ति के बाहर घूमने का समय स्थान और दिनांक का विवरण है….

हजारीबाग: प्रशासनिक चूक बोले या लापरवाही वो तो हो चुकी है. एक करोना संक्रमित मरीज हजारीबाग एचएमसीएच अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड से निकलकर शहर के अलग-अलग जगहों पर घूम आया इसका खुलासा कुरौना संक्रमित मरीज ने पूछताछ में जब खुद किया प्रशासन व स्वास्थ्य महकमा में हड़कंप मचा है.

आप की जानकारी को बता दें संक्रमित व्यक्ति आइसोलेशन वार्ड में रहते हुए रिपोर्ट आने के दिन तक शहर में चहलकदमी करता रहा था.

29 मार्च को बंगाल से निकला था

बिष्णुगढ़ प्रखंड का रहने वाला कोरोना संक्रमित व्यक्ति 29 मार्च को पश्चिम बंगाल आसनसोल के मुंशी बाजार से निकल बराकर, निरसा,बरवाड़ा चौक धनबाद, बगोदर,.विष्णुगढ़ पहुंचने के बाद 30 मार्च सदर हॉस्पिटल हजारीबाग पहुंचा . 30 मार्च 31 मार्च और 1 अप्रैल को व्यक्ति हॉस्पिटल से निकल वहां के आसपास के जगहों में जाता है, कभी चाय की दुकान, कभी लिट्टी चोखे की स्टॉल पर. चाय पीने का लिट्टी चोखा खाने का तो पता नहीं लेकिन जिला प्रशासन द्वारा दी गई विवरणी में यह स्पष्ट है कि व्यक्ति उक्त सभी जगहों पर गया.

जिला प्रशासन ने संक्रमण की संभावनाओं को देखते हुए शहरवासियों के लिए एहतियातन सुरक्षार्थ अति आवश्यक सूचना के तहत कोरोना संक्रमित व्यक्ति की यात्रा विवरणी उपलब्ध कराई है. जो बंगाल से निकलने से लेकर हजारीबाग के बाजारों में घूमने तक का है.

झंडा चौक

अति आवश्यक समझते हुए आप सभी हजारीबाग वासी कृपया समय, स्थान, दिनांक पर ध्यान दें अगर आपको लगता है आप बताए गए समय स्थान और दिनांक पर मौजूद रहे हो कंट्रोल रूम नंबर 93049 58736 पर संपर्क करें….

संक्रमित व्यक्ति के हॉस्पिटल से बाहर जाने के समय स्थान और दिनांक पर कृपया ध्यान दें

जिला प्रशासन द्वारा जारी की गई फ्लो चार्ट जहां व्यक्ति के बंगाल से हजारीबाग पहुंचने तक का यात्रा विवरण व अति महत्वपूर्ण हॉस्पिटल से बाहर निकलने का समय स्थान और दिनांक भी

पहला दिन तारीख 30 मार्च, समय: शाम 4:30 से 5:00 के बीच, स्थान- गिनी क्लीनिक एंड मेडिसिन, ए सरकार मेडिकल शॉप सदर हॉस्पिटल के पास…

दूसरा दिन तारीख 31 मार्च, समय:. सुबह 5:00 बजे लगभग, जगह -चाय दुकान झंडा चौक.. उसी दिन दूसरी बार समय: सुबह 7:00 से 7:30 के लगभग, जगह- लिट्टी चोखा स्टॉल पूजा रेस्टोरेंट के पास..

तीसरा दिन तारीख 1 अप्रैल, समय- लगभग सुबह के 5:00 बजे, जगह- दोबारा से चाय दुकान झंडा चौक. 1 अप्रैल को ही दूसरी बार समय- सुबह 7:00 से 7:30 के बीच, जगह- फिर से लिट्टी चोखा स्टॉल पूजा रेस्टोरेंट के पास.

सवाल भी खड़े होते हैं…..

जब संक्रमित व्यक्ति हॉस्पिटल से बाहर निकलकर घूम आता है तो देखा गया निकलने के क्रम में व्यक्ति 2 दिन लगातार लिट्टी चोखे की स्टॉल पर जाता है.. प्रासंगिक होगा सवाल खड़ा करना क्या क्वॉरेंटाइन या आइसोलेशन की व्यवस्था ऐसी है जहां लोगों को खाना नहीं मिलता पर्याप्त देखभाल नहीं होती सुविधाएं नदारद हैं. सवाल इसलिए भी लाजमी हो जाता है अक्सर संपूर्ण झारखंड प्रदेश से लोगों की आइसोलेशन वार्ड या फिर कहें क्वॉरेंटाइन सेंटर से भागे जाने की खबरें आती रही हैं. दूसरा जब व्यक्ति के बाहर निकलने के समय पर गौर करेंगे दूसरे और तीसरे दिन एक ही समय पर बाहर निकलता है इत्तेफाक है या निकलने दिया गया.

खैर.. फिलहाल जरूरत इस बात की है दिए हुए समय स्थान और दिनांक पर अगर कोई भी व्यक्ति मौजूद रहे हो तो जिला प्रशासन के दिए गए नंबर पर संपर्क कर कुरौना संक्रमण संबंधित बचाव या उपचार के दिशा निर्देशों का पालन करें. बतौर जागरूक नागरिक खुद को सामने लाएं ,आइसोलेट या क्वॉरेंटाइन रखना ही एकमात्र विकल्प है ऐसी परिस्थितियों में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here