दिल्ली पहुंच रेल मंत्री से मिले सदर विधायक, सौंपा छः सूत्री मांगपत्र, हजारीबाग की जनभावना से उन्हें कराया अवगत

रेल मंत्री ने सदर विधायक को दिया आश्वासन, 15 नवंबर तक बड़काकाना -रांची लाइन का काम हो जायेगा पूरा, अगले तीन महीने में हजारीबाग से किसी प्रमुख महानगर के लिए शुरू होगा ट्रेन, हजारीबाग में ट्रेन के रख- रखाव व साफ- सफाई की सुविधा हो रही है विकसित

हजारीबाग वासियों के लिए लंबी दूरी की ट्रेन परिचालन का सपना वर्षों से अधूरा रहा हैं। तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेई द्वारा दिनांक 3 मार्च 1999 को हजारीबाग- कोडरमा रेल लाइन का शिलान्यास कार्य किया गया। फिर 20 फरवरी 2015 को देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हजारीबाग रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया। उद्घाटन के बाद पिछले करीब साढ़े सात साल से अत्यधिक समय व्यतीत होने के बाद भी हजारीबाग के लोगों का यहां से महानगरों के लिए रेल पकड़ने का सपना अधूरा है. बहुप्रतीक्षित मांग पर हजारीबाग सदर विधायक मनीष जायसवाल ने सदन पटल से लेकर रेलवे विभाग के पदाधिकारी और रेलवे मंत्री तक समय-समय पर ध्यान आकृष्ट कराया. पिछले झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के दौरान जब 5 अगस्त 2022 को गैर सरकारी संकल्प की सूचना के दौरान हजारीबाग रेलवे स्टेशन को देश के अन्य राज्यों के रेलवे स्टेशन से जोड़ने का प्रस्ताव रेलवे मंत्रालय को राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराने को लेकर उन्होंने मामला उठाया और इसपर सकारात्मक पहल करते हुए राज्य सरकार ने इसे गंभीरता से लिया और राज्य के परिवहन विभाग के सचिव कमल किशोर सोन ने परिवहन विभाग, झारखंड सरकार के पत्रांक- 1058, दिनांक -02.08.2022 द्वारा अध्यक्ष, रेलवे बोर्ड से हजारीबाग शहर रेलवे स्टेशन को देश के अन्य राज्यों के रेलवे स्टेशन से जोड़ने की मांग की।

विधायक रेल मंत्री के पास पहुंचे

विधायक मनीष जायसवाल रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव और रेलवे अधिकारियों से मुलाकात कर एक छः सूत्री मांग पत्र सौंपते हुए बहुप्रतीक्षित मांग को पूरी करने का आग्रह किया। रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव से मुलाकात के दौरान विधायक मनीष जायसवाल ने विस्तृत रूप से इस संबंध में उनसे चर्चा की। इससे पूर्व विधायक मनीष जायसवाल ने रेलवे मंत्रालय में सोमवार को दिनभर रहकर विभिन्न सचिवों, आप्त सचिवों एवं निदेशकों से हजारीबाग वासियों की जरूरत वह मांगों को लेकर विस्तार पूर्वक चर्चा की और उन्हें हजारीबाग की जन भावना से अवगत कराया ।

ट्रेन को लेकर हजारीबाग के कष्ट को बताया

विधायक मनीष जायसवाल ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से उनके दिल्ली स्थित कार्यालय कक्ष में मुलाकात कर बताया कि वर्तमान में हजारीबाग रेलवे स्टेशन में सिर्फ हजारीबाग – बरकाकाना एवं कोडरमा पैसेंजर रेल और बाकी माल गाड़ी ट्रेन का परिचालन हो रही है जबकि कोविड काल से पूर्व हजारीबाग से पटना के लिए रेल सेवा प्रारंभ हुई थी जो वर्तमान में बंद है। हजारीबाग रेलवे स्टेशन को देश के कई बड़े शहरों जैसे पटना, कोलकाता, वाराणसी, दिल्ली, मुंबई, बेंगलूर, हैदराबाद और चेन्नई आदि रेलवे स्टेशनों से जोड़ने की योजना थी जो अब तक लंबित है। उल्लेखनीय है कि रांची से दिल्ली या अन्य रेलवे स्टेशन जाने वाली कई ट्रेनों का परिचालन बरकाकाना होकर होती है जिसे हजारीबाग शहर रेलवे स्टेशन से जुड़ने से हजारीबाग के लोगों को रांची या बडकाकाना जाने की परेशानी को नहीं झेलनी पड़ेगी।

मनीष जायसवाल ने जिन छः मांगों को रेल मंत्री के समक्ष रखा

  1. जबतक रांची से बरकाकाना सीधा लिंक नहीं हो जाता तब तक वर्त्तमान में जो राजधानी एक्सप्रेस रांची-मुरी-बरकाकाना-गढ़वा होते हुए दिल्ली संचालित है उसको रांची-मुरी-बरकाकाना-हज़ारीबाग-कोडरमा-गया होते हुए इस ट्रेन का संचालन 2 दिन इस रूट से हो और इसका ठहराव हजारीबाग में रखा जाए।
  2. वर्तमान में हटिया से कोलकाता भाया टाटानगर – खड़गपुर जो ट्रैन संचालित है आपसे आग्रह होगा कि इसे सप्ताह में कम से कम 2 दिन रांची- मूरी- बरकाकाना- हजारीबाग- कोडरमा-धनबाद होते हुए कोलकाता तक संचालित हो।
  3. वर्तमान में हटिया से पटना ट्रेन जाती है, आपसे आग्रह होगा कि इसे सप्ताह में कम से कम 2 दिन रांची- मूरी- बरकाकाना- हजारीबाग- कोडरमा-गया होते हुए पटना तक संचालित हो।

4.हजारीबाग जिले के हजारों बच्चे दक्षिण भारत में अध्ययनरत व नौकरी पर हैं। साथ ही यहां से बड़ी संख्या में वेल्लोर सहित चेन्नई के विभिन्न अस्पतालों में मरीजों की आवाजाही होती है। यह अभी की जरूरत व मांग है कि एक ट्रेन हजारीबाग से चलकर बेंगलुरु होते हुए वेल्लोर और फिर चेन्नई तक के लिए संचालित हो।

  1. हजारीबाग जिले के हजारों कर्मचारी महाराष्ट्र व गुजरात में कार्यरत हैं। यह सभी की जरूरत व मांग है कि एक ट्रेन हजारीबाग से चलकर अहमदाबाद होते हुए मुंबई तक के लिए संचालित हो।
  2. बरकाकाना से कोडरमा तक की लाइन अब भी सिंगल ट्रेक है। आपसे आग्रह है कि इसे तत्काल डबल ट्रेक करने की दिशा में प्रयास किया जाए।

मनीष जायसवाल को रेल मंत्री के आश्वासन पर है पूरा भरोसा

सदर विधायक मनीष जायसवाल ने कहा कि सिद्दत से किया गया प्रयास कभी विफल नहीं होता। झारखंड विधानसभा के पटल पर हजारीबाग की जन भावना के अनुरूप हजारीबाग रेलवे स्टेशन से विभिन्न महानगरों के लिए रेल परिचालन सेवा शुरू करने को लेकर राज्य सरकार पर बनाया गया दवाब सफल हुआ और राज्य सरकार ने इसकी वकालत रेलवे बोर्ड से की। विधायक मनीष जायसवाल ने कहा कि सदन में सवाल उठाने के बाद रेलवे अधिकारियों और भारत सरकार के रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से मिलकर हमने हजारीबाग वासियों की भावना को बारीकी से उनके समक्ष रखा। रेल मंत्री ने बड़े ही गंभीरता से लिया और जल्द सकारात्मक पहल करने का भरोसा जताया। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से हुई चर्चा के बाबत विधायक मनीष जायसवाल ने बताया कि बरकाकाना से रांची रेल लाइन 15 नवंबर तक पूरा करने का निर्देश दिया गया है, जिससे हजारीबाग का जुड़ाव प्रमुख मार्गों से यथाशीघ्र हो जायेगा। अगले 3 महीने के अंदर हजारीबाग से किसी प्रमुख गंतव्य (महानगरों) के लिए ट्रेन देने की दिशा में मिली । हजारीबाग में ट्रेन के रख- रखाव व साफ-सफाई की सुविधा रेलवे मंत्रालय विकसित करने जा रही है जो पिछले कुछ समय से रुका हुआ था। इस मापदंड में खरा उतरने से यह लाभ होगा कि भविष्य में प्रमुख ट्रेनें यहां से खुल सकेंगे वह यहां आकर यात्रा समाप्त भी हो सकेगी। अब हजारीबाग से लंबी दूरी की ट्रेन की जल्द आस जगी हैं। विधायक मनीष जायसवाल ने यह भी कहा कि रेल मंत्री के आश्वासन पर हमें पूरा भरोसा है और जल्द हजारीबाग से लंबी दूरी की ट्रेन का सौगात मिलने वाला है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here