हजारीबाग में रामनवमी जुलूस को अनुमति देने की मांग को लेकर दोनों हाथों में तख्ती के साथ सदन में धरना पर बैठे विधायक मनीष जयसवाल

झारखंड विधानसभा के मुख्य द्वार पर सोमवार को झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के क्रम में हजारीबाग सदर विधायक मनीष जयसवाल ने हजारीबाग में ऐतिहासिक रामनवमी जुलूस को अनुमति देने की मांग को लेकर धरना दिया. भाजपा विधायकों ने विधानसभा के मुख्य द्वार पर हिन्दू विरोधी सरकार होश में आओ के नारे भी लगाए. हजारीबाग सदर विधायक मनीष जायसवाल ने अपने एक हाथ की तख्ती में हिंदुओं के धार्मिक आस्था को ठेस पहुंचाना बंद करो तो दूसरे हाथ की तख्ती में हजारीबाग के इंटरनेशनल रामनवमी के जुलूस की अनुमति देना होगा लिखकर अपनी मांगों को सरकार तक पहुंचाने की कोशिश की.

100 साल पुराना इतिहास है हजारीबाग के रामनवमी का

विधायक मनीष जायसवाल ने कहा कि हजारीबाग के रामनवमी का 100 साल के अधिक समय का अपना एक इतिहास है. उन्होंने कहा कि विश्वव्यापी कोरोना महामारी के कारण पिछले दो वर्ष से रामनवमी जुलूस प्रतिबंधित रहा, लेकिन अब फिलहाल हालात सामान्य हैं प्रतिबंधित दायरो से सभी चीजों को मुक्त किया गया है. उन्होंने सदन में सरकार से मांग की है कि हजारीबाग में रामनवमी जुलूस की अनुमति दी जाय.. हालांकि, कोई जवाब नहीं मिला था. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से भी मिलकर गुहार लगाई थी बावजूद किसी प्रकार का कोई आश्वासन नहीं मिलने पर विधायक मनीष जायसवाल ने कहा कि यह हिन्दू धर्म के साथ सरकार की तुष्टीकरण नीति को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि सरकार को इसपर जल्द निर्णय लेना चाहिए। यह मामला करोड़ों हिंदुओं की आस्था से जुड़ा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here